छत्तीसगढ़ी संज्ञा सामान्य ज्ञान Chhattisgarhi Sangya Gk in Hindi

छत्तीसगढ़ी संज्ञा सामान्य ज्ञान Chhattisgarhi Sangya Gk in Hindi

CGPCS Exam Preparation

CHHATTISGARHI Noun  – छत्तीसगढ़ी संज्ञा, CG VYAPAM, & CG PSC

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now

संज्ञा – किसी व्यक्ति, वस्तु, स्थान, जाति या भाव के नाम को संज्ञा कहते हैं। छत्तीसगढ़ी भाषा में भी संज्ञा हिन्दी के अनुरूप होता है।

हिंदी की भाँति छत्तीसगढ़ी में भी संज्ञा के पाँच प्रकार होते हैं

  1. व्यक्तिवाचक
  2. जातिवाचक
  3. पदार्थ/द्रव्य वाचक
  4. समूहवाचक
  5. भाववाचक

(A) – व्यक्तिवाचक संज्ञा – जिस शब्द से किसी एक ही वस्तु, व्यक्ति या स्थान का ज्ञान होता है, उसे ‘व्यक्तिवाचक संज्ञा’ कहते हैं।

जैसे• व्यक्तियों के नाम – जेटू, बैसाखू, फेकू, दुकालू, मनटोरी, रूखमिन, खोलबहरा, रामलाल, मंगलू, बुधराम, शुकवारा, बुधवारी, समारू, गजमार आदि।

[CG PSC(Pre)2017] [CG Vyapam (LOI)2017]
  •       नदी-पर्वतों के नाम महानदी, अरपा, शिवनाथ, दलहा, सिहावा, मैकल, पैरी, सोंढूर आदि। (CG PSC(Pre)2018]
  •       शहरों एवं गांवों के नाम – रइपुर, बिलासपुर, दुरूग आदि।
  •       त्यौहारों के नाम – हरेली, भोजली, देवारी, तीजा, पोरा, कमरछठ, छेरछेरा, होली आदि।
  •       महीनों के नाम – चइत, बइसाख, माघ, फागुन आदि।
  •       दिनों के नाम – इतवार, शनिचर, बुधवार आदि।।
  •       फलों एवं वृक्षों के नाम – बोइर, आमा, बमरी, परसा, मुनगा, कलिंदर, अमली आदि।
  •       पुस्तकों व समाचार पत्रों के नाम – रमायन (रामायण), गीता, नवभारत, दैनिक भास्कर आदि।
  •       दिशाओं के नाम – भंडार (उत्तर दिशा), बुड़ती (पश्चिम दिशा), उत्ती (पूर्व दिशा), रक्सहू (दक्षिण दिशा), ईसान (ईशान), आग्नेय (आग्नेय), नैरित्य (नैऋत्य), वायव्य (वायव्य)

(B) जातिवाचक संज्ञा – जिन शब्दों से एक ही प्रकार की वस्तुओं या प्राणियों के पूरी जाति का बोध होता है उसे जातिवाचक संज्ञा कहते हैं।

जैसे – बइला (बैल), गरूआ (गाय), भंइसा (भैंसा), नदिया (नदी), तरिया (तालाब), रूख (पेड़), चिरई (चिड़िया), सुआ (तोता), मुसवा (चूहा), टुरा (लड़का), टुरी (लड़की), डोली (खेत) [CG PSC(ACF)2016] लेखक, कवि, संतरी, चपरासी, टेंहो (नीलकंठ) [CG PSC(Pre)2018] मनखे (मनुष्य) [CG PSC(ADI)2018-19] आदि।

डोंगरो – जातिवाचक
दलहा – व्यक्तिवाचक (CG PSC(Pre)2017
  • मनुष्य – टूरी(लड़की), टूरा(लड़का), आदमी, औरत, भाई, बहन
  • पशु पक्षी – गाय, बइला(बैल ), घोड़ा, सुआ(तोता), मैना, मंजूर(मयूर) आदि
  • वस्तुओ का नाम – घड़ी, मेज, कुर्सी, टेबल, किताब, मोबाइल, कंप्यूटर आदि
  • पद या व्यवसाय के नाम – शिक्षक, लेखक, कवि, डॉक्टर, चपरासी आदि

Chhattisgarhi Grammar छत्तीसगढ़ का सम्पूर्ण व्याकरण Click Now

(c) पदार्थ वाचक संज्ञा – जिस शब्द से किसी ऐसी वस्तुओं का ज्ञान हो जिसे नाप-तौल किया जा सकता है किन्तु गिना नहीं जा सकता है उसे ‘पदार्थवाचक संज्ञा’ या द्रव्यवाचक संज्ञा कहते हैं। जैसे – सोन (सोना), धान, तेल, गोरस (दूध), घीव (घी), चाउर (चावल), नून (नमक), पिसान (आटा), तामा (तांबा), तेजाब आदि। [CG PSC(Pre)2019],[CG Vyapam (FCPR) 2016]

  • धातु तथा खनिजों के नाम – लोहा, सोना, चांदी, पीतल, कांसा आदि |
  • खाने-पीने की वस्तुओ का नाम –पानी, घी, तेल, चाउर (चावल ), गोरस (दूध), नून (नमक ) आदि |
  • ईंधनों के नाम – माटी तेल (मिट्टी तेल ), पेट्रोल, डीजल, कोयला |

(D)भाववाचक संज्ञा – जिस शब्द से किसी व्यक्ति या वस्तु के गुण, दोष, धर्म, दशा या भाव आदि का ज्ञान होता है, उसे ‘भाववाचक संज्ञा’ कहते हैं। जैसे – रिस (क्रोध), मया (प्रेम), संसो (चिंता), अंधियार (अंधेरा), उजियार, पियास, जियास, चतुराई, सियानी आदि। CG PSC (ACF) 20161 भाववाचक संज्ञाओं का निर्माण – छत्तीसगढ़ी में भाववाचक संज्ञाओं का निर्माण हिंदी की भाँति प्रायः संज्ञा, विशेषण एवं क्रिया से होता है। यह एक विकारी शब्द है।

(E) समूहवाचक संज्ञा – जिस शब्द से किसी प्राणी या वस्तु के समूह का ज्ञान होता है, उसे ‘समूहवाचक संज्ञा कहते हैं। जैसे

  •       झोत्था (गुच्छा) (झोत्था के झोत्था आमा फरे हे।) CG PSC (ACF) 2016]
  •       बरदी (जानवरों का समूह) कोरी (बीस का समूह
  •       बारात
  •       हफ्ता (सप्ताह – सात दिन का समूह)
  •       गोहड़ी (जानवरों का समूह) खइरखा (जानवरों का समूह)

महत्वपूर्ण वस्तुनिष्ठ प्रश्नोतरी: छत्तीसगढ़ी व्याकरण [CGPSC (PRE & MAINS) Vyapam में पूछे जाने वाले प्रश्न 

  1. निम्नलिखित शब्दों में से समूहवाचक संज्ञा को पहचानिए
    (A) चाँउर
    (B) डोली
    (C) पियास
    (D) बरदी
    (E) इनमें से कोई नहीं
    उत्तर- (D) [CG PSC(ACF)2016]

संज्ञा –  संज्ञा के प्रकार
1. चाँउर – पदार्थ वाचक संज्ञा
2. डोली – जाति वाचक संज्ञा
3. पियास – भाव वाचक संज्ञा
4. बरदी – समूह वाचक संज्ञा

  1. निम्न में से कौन-सा शब्द ‘व्यक्तिवाचक संज्ञा नहीं है ?
    (A) समारू
    (B) गजमार
    (C) डोंगर
    (D) दलहा
    (E) इनमें से कोई नहीं
    उत्तर- (C) [CG PSC(Pre)2017]

संज्ञा – संज्ञा के प्रकार

  • समारू  व्यक्ति वाचक
  • गजमार व्यक्ति वाचक
  • डोंगर  जाति वाचक
  • दलहा व्यक्ति वाचक

 

  1. ‘करू’ शब्द का भाववाचक संज्ञा क्या है ?
    (A) कडुवा
    (B) करूआई
    (C) करूआ
    (D) करूवा
    (E) करूयाई
    उत्तर- (B) [CG PSC(Pre)2015]

 

  1. ‘तेजाब’ शब्द ह कइसन संज्ञा आय ?
    (A) जातिवाचक
    (B) व्यक्तिवाचक
    (C) द्रव्यवाचक
    (D) समूहवाचक
    उत्तर- (C) [CG Vyapam(FCPR)2016]

 

  1. खोलबहरा है
    (A) व्यक्तिवाचक
    (B) जातिवाचक
    (D) समूहवाचक
    (C) भाववाचक
    उत्तर- (A)

 

  1. गोरस शब्द संज्ञा का कौन-सा प्रकार है ? [CG Vyapam (LOI)2015]
    (A) द्रव्यवाचक
    (B) समूहवाचक
    (C) भाववाचक
    (D) जातिवाचक
    उत्तर- (A)

 

  1. समूहवाचक संज्ञा है [CG PSC(Pre)2019] (A) बोइर
    (C) करू
    (B) सियानी
    (D) झोत्था
    उत्तर-(D)

 

  1. जाति वाचक संज्ञा है
    (A) हरेली
    (C) अरपा
    (B) नदिया
    (D) बैशाखू
    (B) रिस
    उत्तर- (B)

 

  1. इनमें से कौन-सा भाव वाचक संज्ञा नहीं है
    (A) चतुराई
    (C) अंधियार
    (D) टुरा
    उत्तर- (D)

 

  1. संज्ञा कितने प्रकार के होते हैं ?
    (A) 6
    (B) 8
    (C) 5
    (D) 8 4
    उत्तर- (c)

 

  1. व्यक्तिवाचक संज्ञा नहीं है
    (A) भंडार
    (B) सिहावा
    (B) मया
    (D): हरेली
    उत्तर-(B)
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now

Leave a Comment

x